हल्द्वानी शहर में है भगवान शिव का प्राचीन मंदिर, भोलेनाथ करते हैं भक्तों के मन की मुराद पूरी

पवन सिंह कुंवर/हल्द्वानी. उत्तराखंड के हल्द्वानी में कई ऐसे प्राचीन मंदिर हैं जहां भक्तों की मन की मुराद पूरी होती है. इनमें से एक मंदिर भोलेनाथ का भी है जो हल्द्वानी शहर के मंगल पड़ाव में स्थित है. यहां आने वाले हर श्रद्धालु की मुराद भगवान शिव पूरी करते हैं. शहर में स्थित यह शिव मंदिर लगभग 100 से 150 साल पुराना है. यहां आने वाले भक्तों की हर मुराद पूरी होती है. कवांड की मेले के बाद यहां श्रद्धालु जल चढ़ाने के लिए पहुंचते हैं और जो भी भक्त इस मंदिर पर सच्चे मन से मुराद मांगते हैं. भगवान उनकी मुराद जरूर पूरी करते हैं. यहां हर सोमवार और शनिवार को भक्तों का तांता लगा रहता है.

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, उत्तराखंड में कई देवी-देवताओं का निवास स्थल बताया जाता है. यही वजह है कि इसे देवभूमि के नाम से पुकारा जाता है. शिव का यह मंदिर प्राचीनता के लिए जाना जाता है. माना जाता है कि यह मंदिर करीब 100 से 150 साल पुराना है. यही वजह है कि इस मंदिर में साल भर श्रद्धालु हाजिरी लगाने पहुंचते हैं. माना जाता है कि सच्चे मन से की गई मुराद इस मंदिर में आकर जरुर पूरी होती है. भगवान शिव के केदारनाथ रूप के दर्शन हों या फिर कैलाश पर्वत पर बसा भगवान शिव का परिवार, इस मंदिर में देवों के देव महादेव की कृपा बरसती है.

यहां शनिदेव, कुबेर समेत कई देवी-देवताओं के मंदिर भी हैं. यहां मंदिर के पुजारी पंडित हेम चंद्रा उप्रेती बताते हैं कि अटूट आस्था के इस मंदिर में महाशिवरात्री पर श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ता है. इसके साथ ही साल भर मंदिर परिसर में श्रीमद्भागवत कथा समेत अन्य धार्मिक कार्यक्रमों से वातावरण भक्तिमय रहता है. कि इस मंदिर की महिमा दूर-दूर तक फैली हुई है.

150 साल पुराना है यह शिव मंदिर

शिव मंदिर हल्द्वानी शहर में मंगल पड़ाव के पास 150 साल पुराना है और इसकी खासियत है कि यह मंदिर शहर के बीचों बीच स्थित है. मंदिर में लोगों का अटूट विश्वास और श्रद्धा है. जो भी भक्त इस प्राचीन मंदिर में आता है भगवान शिव उनकी मुराद जरुर पुरी करते हैं.

Tags: Haldwani news, Local18, Lord Shiva, Religion 18, Uttarakhand news

https://images.news18.com/ibnkhabar/uploads/2023/08/3340049_HYP_0_FEATUREIMG_20230813_085311.jpg?im=FitAndFill,width=1200,height=675